US Congressman Danny Davis celebrates Diwali in Washington



#USCongressman #DannyDavis #Diwali #Washington
Subscribe Now ► Stay Updated! 🔔

Washington DC (USA), Nov 04 (ANI): US Congressman Danny K Davis of Chicago, Illinois hosted a Congressional reception to celebrate Diwali at the National Democratic Club, Washington DC. He celebrated Festival of Lights with Indian diaspora. (KP)
————————————–
ANI is South Asia’s leading Multimedia News Agency providing content for every information platform, including TV, Internet, broadband, newspapers, and mobiles.
Subscribe now! Enjoy and stay connected with us!!
☛ Subscribe to ANI News channel:
☛ Visit our Official website:
☛ Follow ANI News:
☛ Like us:
☛ Email to Shrawan K Poddar: shrawankp@aniin.com
☛ Copyrights © All Rights Reserved ANI Media Pvt Ltd.

4 comments

  1. आपातकाल हालातों के कार्यों में नियमों में छूट का प्रावधान हैं लेकिन नियमों में छूट का आधार दूसरे नियम रच लेना,बना लेना कदापि नहीं। नींव एक बार बनने के बाद परिवर्तन लाना व्यवस्था को कमजोर करने जैसा होगा। जो यह कार्य हो रहा हैं तत्काल परिवर्तन हो जाए ऐसा भी नहीं हैं लेकिन हम सब मिलकर करने जा रहे हैं। इसमें कोई भेदभाव नहीं हैं छोटे बड़े का कम ज्यादा का क्योंकि प्राणवायु सृष्टि पर सभी के लिए समान रूप से बहती है सभी के लिए अलग- अलग नहीं बहती। सृष्टि में भाँति-भाँति की मौजूद व्यवस्था हैं और सभी प्रकार के पुष्प खिलें हैं। विभिन्नता में भी एकता हैं अगर ऐसा नहीं होता तो मनुष्यों का भविष्य समाप्त हो जाता। जहर फैलने से बचाना हैं। जाति यानि मनुष्य, धर्म यानि मानवता ,यहीं दो व्यवहारिक बातें हैं जिनके बल पर आगे आकर कार्य करने हैं।
    🌏पृथ्वीलोक हम सब का घर हैं। घर में स्वच्छ वातावरण बना रहे का प्रयास सभी ने किया हैं और आगे भी करेंगे। सतयुग की यात्रा की और सत्य का भाव आवश्यक कदम हैं। सदैव वसुधैव कुटुम्ब को दृष्टिगत रख कर कार्य करिये।

    सत्ययुग के प्रारम्भ में जेलों से कैदियों को रिहा किया जाएगा जिसकी व्यापक योजना लागू की जाएगी। जेलों को समाप्त कर जेंलकर्मियों को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व वन्य एवं पर्यावरण मंत्रालय में जोड़कर प्रदूषण नियंत्रण कार्यों में एवं उन जेलों में खोली जाने वाली संस्थानों के कामकाज में लिया जाएगा एवं कैदियों के पुनर्वास का प्रबंध कर उन्हें मुख्य धारा में जोड़ा जाएगा। सरकारी व प्राइवेट वकील और जज समुदाय व इस काम से जुड़े मनुष्य भी चिंतित ना हो उनकें लिए भी भव्य एवं व्यापक योजना तैयार हैं उस समय रख दी जाएगी और जहां तक बात हैं सिविल मामलों के जजों और वकीलों की और स्टाफ की वे सब यथावत कार्य करेंगे।

    जितने भी मजदूर व इंजीनियर  सड़के बनाने में लगे हैं रखरखाव का कामकाज और किसी प्राकृतिक विनाश के कामकाज की टास्कफोर्स के रूप में त्वरित कार्यवाही को अंजाम देंगे एवं समस्त सरकारी सम्पत्तियों  के रख-रखाव का कार्य करवाया जाए। विकास तो बहुत हुआ अब विकास को सही मायनों में रख-रखाव करना आवश्यक हैं। लापरवाही या सुविधाओं के लालच को अनावश्यक विकास का कारण मनुष्य जगत में बनाना उचित नहीं माना जाता हैं।

     उपर्युक्त कार्यों से प्रदुषण तो कम होगा साथ ही पृथ्वी पर ईंधन की बचत होंगी,साथ-ही साथ आधारभूत संरचना की ज्यादा आवश्यकता  नहीं पड़ेगी और जो धन बचेगा उसे बेरोज़गारी मिटाने में लगाया जाएगा। गरीबी दूर करने में लगाया जाएगा वैश्विक समस्याओं को निपटाने में काम में लिया जा सकेगा ।

    जो भी ऊर्जा के स्रोत हैं,उनको सुरक्षित कर संरक्षित करने के साथ ईमानदारी से बचत करके कार्य करना सम्पूर्ण पृथ्वी वासियों के हित में हैं। इसलिए तेल के कुओं को बंद करना आवश्यक हैं। लगातार प्राण वायु में सुधार होगा। हमें कोई अधिकार नहीं बनता कि स्वयं के स्वार्थों के लिए दूसरों के जीवन को खतरे में डाले पृथ्वीं सभी के लिए हैं, इसको वसुधैव कुटुम्ब इसी लिए माना गया हैं।

  2. 卐  🕉 卐

    🌞🌝🌏"🕉गं गणपतये नमः" "🕉 महालक्ष्मि दैव्ययी नम:" "🕉महासरस्वती दैव्ययी नमः"

    🌏🌞🌝🐳🐗👣🐯🐮🦣🦄🌈🎨🔱🏹🦅🦜🦚🦢🦉🐓📿🚩🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🌺⚘🌹🌼🌻🌺🥀🏵💐🌸🐚🔔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔

    सम्पूर्ण वसुधैव कुटुम्ब को समुद्रमंथन की                                         बधाई एवं विशेष संदेश।

                         विष या अमृत

     पृथ्वीं पर प्रदूषण नियंत्रण के उपाय

            आप सो रहे व जागें हुए हैं ?

    ट्रैफिक पुलिस :- रुको-रुको,गाड़ी साइड़ में लगानी पड़ेगी,क्या यह चौपहिया वाहन आपका हैं?

    वाहन चालक :- हाँ जी मेरा ही हैं।

    ट्रैफिक पुलिस:- चलो कागज दिखाओ और कितने वाहन हैं और कौन-कौन से हैं?

    वाहन चालक :- जवाब दो और हैं। एक पैट्रोल बाइक हैं और एक पैट्रोल स्कूटर।

    ट्रैफिक पुलिस :- परिवार में कितने सदस्य हो?

    वाहन चालक :- पांच सदस्य हैं।

    ट्रैफिक पुलिस :- पांच सदस्य और तीन वाहन। कैसे काम में लेते हो ? अभी कहां जा रहे हो?

    ट्रैफिक पुलिस :- अभी आप जो यह कार चला रहे हो इसमें कितने लोगों के लिए सीट हैं?

    वाहन चालक :- सर जी पाँच लोगों के लिए सीट हैं।

    ट्रैफिक पुलिस :- बाकी की तीन सीटें खाली क्यों हैं चलो जुर्माना भरो।

    वाहन चालक :- ऐसा कहाँ लिखा है कि कार की सीटें खाली रहेंगी तो जुर्माना भरने पड़ेगा?

    ट्रैफिक पुलिस :- अच्छा यह बताओ गाड़ी घर में खड़ी करने के लिए पार्किंग तो होंगी?

    वाहन चालक :- नहीं हैं। घर के बाहर सड़क पर खड़ी करते हैं।

    ट्रैफिक पुलिस:- जब गाड़ी खरीदी तब क्या स्वयं की और से कम्पनी को पार्किंग को लेकर कोई वचन दिया था?

    वाहन चालक :- सर हमने कहा था हमारे पास पार्किंग की व्यवस्था हैं।

    ट्रैफिक पुलिस :- क्या धरती माता का सम्मान करते हो?

    वाहन चालक :- बिल्कुल करते हैं।

    ट्रैफिक पुलिस:- आपके कर्म बता रहे है कि आप ऐसा नहीं करते हैं। अगर कर रहे होते तो पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम का प्रयोग कर रहे होते ना कि कार का। पूरा सदुपयोग ना होना आपकी जिम्मेवारी बनती हैं। जिस कार्य  के लिए दुनिया भर में हंगामा है कि प्रदूषण के कारण मनुष्यों का जीवन एवं जीव जगत संकटग्रस्त हो गया हैं। फिर भी आप कह रहे कि आपने कोई गलती नहीं की हैं।
    चीफ कंट्रोलर 🦄 :- अब विश्व व्यापक नियम बना दिये गए हैं। इन नियमों के अन्तर्गत कोई भी वाहन खाली सीटों के नहीं चलेगा चाहे राष्ट्रपति का हो या चपरासी पाँच सीटों का मतलब पांचों पर यात्री होने चाहिए अन्यथा चालान काटा जाएगा। इस यात्रा में आपको आपका खोया परिवार मिलेगा,भरोसा और प्यार मिलेगा और एक छोटे से परिवार से निकल समाज,देश,दुनिया में सत्ययुग की और जाने का भाईचारे का सहयोग का भाव मिलेगा। नया जीवन मिलेगा चैन से जी सकोगे चैन से मर सकोगे असंतुष्टि का भाव न तो जीने देता हैं और ना ही मरने। इस दुनिया के आगे भी दुनिया हैं आवश्यकता हैं कलियुग से बाहर निकलने की, ईमानदारी से प्रयास करने की। मार्ग हैं, इसपर बढ़ते जाना हैं पीछे मुड़कर नहीं देखना,देखना सिर्फ इतना ही हैं कि जो भी कर्म  जाने अनजाने जीवन में घटित हुए, किए में से सही मार्ग का चुनाव कर बढ़े, नहीं मार्ग दिखे तो जो मार्ग दिखाने वाला मिले पर चल पड़ो इसमें कोई बुराई भी नहीं।

    ट्रक,बस,छोटे वाहन,ट्रेन,हवाई जहाज,पानी के जहाज,मोटरबोट,इत्यादि सभी यातायात के साधनों का इस्तेमाल पूर्णतः किया जाएगा। दुपहिया वाहन या कैसे भी वाहन सीटें भरकर ही वाहन चलाए जा सकेंगे। पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम का सहारा लेना पड़ेगा। सुविधा के अनुसार वाहनों का चयन ना करके उपयोगिता के आधार पर चयन करना आवश्यक माना गया हैं। माल ढुलाई वाले वाहनों,जहाजों का चयन आवश्यकता व क्षमता के आधार पर होगा। औद्योगिक कारोबार में भी नियमों के अनुसार पेट्रोलियम पदार्थों का प्रयोग सुनिश्चित किया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.